Wednesday, November 21, 2012

मेरी कविताएं : कविताकोश में


No comments:

Post a Comment

जीवन की बंजर भूमि में रिश्तों की बाड़ी लगवाके
बोये जो सम्बोधन हमने मोह की गाड़ी भर भर काटे